Tuesday, December 10, 2013

जीवन की सीढ़ी

जीवन के हर पल को जीता,
एक अनमने योद्धा के जैसे,
किन्तु अर्जुन नहीं हूँ मैं ,
मेरा कोई कृष्ण नहीं है,

हर सांस तोड़ जाती है,
कुछ पायदान जीवन की सीढ़ी से,
पर पीछे हट जाऊं मैं,
इसका कोई प्रश्न नहीं है,

~ जयंत चौधरी



 

No comments:

Blogvani

www.blogvani.com

FeedBurner FeedCount