Friday, May 29, 2009

मेरे ब्लॉग के 'अनुसरण' के लिए धन्यवाद...


रिचा जी ने बड़ाई से सुभारंभ किया,
मुनीश जी ने बढ़कर सहारा दिया,
मार्क जी ने ब्लॉग को 'मार्क' किया,
राजकुमारी जी ने राज-दान दिया,

तृप्ति जी ने टिप्पणियों से तृप्त किया,
नेहा जी ने आकर नेह-रस बरसा दिया,
संगीता जी ने प्रेरणा का संगीत दिया,
अनिल भाई ने कांति को बढ़ा दिया,

श्रीधर जी ने ब्लॉग की श्री को बढ़ाया,
और फ़िर स्वीकृति का स्टांप मिला,
अरुणा जी ने प्रेम से प्रकाश दिया,
पूनम जी ने रज-रश्मि को फैला दिया,

त्रिदेवी जी से निशब्द प्रोत्साहन मिला,
अलबेला जी से प्रेम मिला अलबेला,
ज़ार जी ने ब्लॉग को भरपूर हौसला दिया,
मधुर बड़ाई करती रही सदैव जी प्रिया,

महेंद्र जी से निरंतर समर्थन मिला,
अंत में उर्मी जी से तरंगी सहारा मिला,
आप सब से जो भी प्रोत्साहन मिला,
उससे ही है मेरे ब्लॉग का बाग़ खिला....

आपसे अनुरोध है, आते रहियेगा,
और ब्लॉग को महकाते रहियेगा,
आपके सुझावों से ही बेहतर बना,
आगे भी रखियेगा अपनी कृपा....

( आप सब को मेरे ह्रदय की गहराइयों से बहुत बहुत धन्यवाद॥ आप सबको लंबे समय से मेरे ब्लॉग को "अनुसरण" करने के लिए धन्यवाद देना चाहता था॥ किंतु अभी तक नहीं कर पाया... विलंब के लिए खेद है, आशा करता हूँ आपका प्रेम ऐसे ही बना रहेगा॥)
(इस धन्यवाद पत्र के लिए, आप सब के नाम या ब्लॉग के नाम का उपयोग किया है... आशा करता हूँ बुरा ना मानेंगे और कोई त्रुटी हुए तो क्षमा करेंगे॥)

~जयंत चौधरी
२९ मई, २००९

16 comments:

"मुकुल:प्रस्तोता:बावरे फकीरा " said...

Ati sundar
ham bhee aa gaye

Kashif Arif said...

ये लिजिये हम भी जुड गये आपसे

AlbelaKhatri.com said...

achha tareeka hai marketing ka .....ab toh line lag jayegi jayantji, agar bahut hi zyada ho jayen toh thode meri taraf sarka dena ...aakhir dost hi toh dost k kam aata hai
kyun thik hai na thik?
wish you so many se bhi zyada freinds
GOOD LUCK

रंजना said...

Waah !!

Lajawaab kavitamayi dhanyawaad gyapan...

Achcha likhte rahen...shubhkaamnayen.

अनिल कान्त : said...

bahut khoob likha hai bhai ji

Udan Tashtari said...

फॉलोवरर्स की तो बड़ी भीड़ है भाई आपके पास. आप सिद्ध कर रहे हैं कि अच्छा लिखो तो पढ़ने वाले कम नहीं.

बहुत बधाई और शुभकामनाऐं.

Priya said...

Wah Jayant ! aaj to kamaal kar diya aapne...wo punjabi mein bolte hain na khush kitai .....poetry with emotional technical intelligence...Always. do experiment

निरन्तर- महेन्द्र मिश्र said...

बहुत बहुत आभार .रचना जिसमे आपने ब्लागरो को समाहित कर दिया .

निर्झर'नीर said...

shukria aapne jo maan diya

Tripti said...

Dear Jayant,
Every one supports good spirit, and so I do.

Keep up good writing.

neha said...

bahut khoob..........jayant ji.....

Jayant Chaudhary said...

अलबेला जी,

ऐसा तो मैंने नहीं सोचा था...
पर तरकीब अच्छी है.. :)
आप भी ना,
बिलकुल अलबेले सुझाव देते हैं.

~जयंत

Jayant Chaudhary said...

काशिफ भाई और मुकुल जी,

धन्यवाद आपके जुड़ने का.
मेरा मान और उत्साह बढाने के लिए मैं आभारी हूँ.

~जयंत

Jayant Chaudhary said...

समीर जी और रंजना जी,

आपके प्रोत्साहन से मुझे बल मिलता है.
धन्यवाद.

~जयंत

Jayant Chaudhary said...

निर्झर`नीर जी,

आपने मान मुझे दिया है.
मैं तो सिर्फ धन्यवाद ही दे सकता हूँ.

~जयंत

Priyanka Singh Mann said...

जयंत जी मेरा लिखा पढने के लिए धन्यवाद ,बहुत अच्छा लगा की आप जैसी सोच के लोग सेना और उस से जुड़े लोगों के लिए इतने संवेदनशील हैं ..जब काफ़ी लोगों की वर्दी के लिए बेरुखी और अनदेखी देखती हूँ तब आप जैसे लोगों का ख्याल ही कुछ शान्ति देता है ..ब्लॉग पर आप के आने का हमेशा इंतज़ार रहेगा ,प्रोत्साहन तो आप दे ही चुके हैं आलोचना से भी कभी न जिझाकियेगा

Blogvani

www.blogvani.com

FeedBurner FeedCount