Tuesday, May 5, 2009

~ एक अधूरी आस ~


वह
क्षण नहीं था,
एक जीवन का अंत,
एक नए अध्याय का,
उसे कहते हैं प्रारंभ...

जीवन के मेले में,
आकर कहीं चला गया,
पर चंद दिनों में,
जन्मों का सुख दे गया,

संसार के नियमों को,
मान के भी तोड़ गया,
जाना था, गया,
पर यादें छोड़ गया,

और
पीछे रह गयी,
एक अधूरी आस,
नन्हे से ह्रदय में,
चुभती सी फांस,

बड़ा कठिन है समझना,
प्रेम की टेढी भाषा,
तू ही है प्रियवर अब,
मेरे जीवन की परिभाषा,

********************


(मेरे एक मित्र को सादर समर्पित...)


~जयंत चौधरी

8 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

मन के उदगारों को
बड़ी सरलता से कविता में पिरोया है।
बधाई।

mark rai said...

बड़ा कठिन है समझना,
प्रेम की टेढी भाषा,.......
hundred persent right...

Sangeeta said...

एक अधूरी आस...
होकर रह गया सपना बस वो ,
मीत पुराना ख्वाब सुहाना |
अब बहा ले आंसू जितना,
मुश्किल है उसका सच हो पाना |
संगीता

अमिताभ श्रीवास्तव said...

darshan se prambh kar prem par samapt...jayant bhai bahut khoob likhaa he aapne//koi shn jivan ka ant nahi hota/ har shn ek nai shuruaat he///doosre shn ko jeene ki//aour fir jivan ka mela bhi to apne poore aakaash ke saath hota he//ynhaa apna jab bichhadtaa he to fir yaad aate he uske saath jiye gaye shn//vo saare sukh//aas...chubhati faans hi to thahri// aas yaa apekshaa dukh ka hi ek kaaran hota he//aapne aas baandhi, apeksha ki, aour yadi poori nahi hui to dukh doudtaa chalaa aataa he//mano use kisi aas paalte aadmi kaa hi intjaar ho//
prem ki bhashaa...samjhna kathin hota he,,ynha aapki pankti ne us sachchai ko bhi khola jise meri nazar dekh rahi he..darasal, "bada kathin he samjhna prem ki tedi bhasha,
tera saath he priyvar ab, mere jivan ki paribhasha//" ek taraf prem samjhna bhi kathin he to doosari taraf priyavar ke saath rahna bhi he//jivan ki paribhasha tak////yahi jivan ki sachchai he//ham prem ki bhasha samjh nahi paate aour ise samjhne ke liye premi ke saath poora jivan bita dete he// yahi to asal prem he, ynha prem jiyaa jaataa he//
bahut achchi lagi bhai aapki rachna//badhai/

सुशील कुमार छौक्कर said...

हम क्या कहे जी, आपने और अमिताभ जी ने सबकुछ तो कह दिया। बस हम तो यही कहेगे कि बहुत गहरे में उतर कर लिखा है आपने। अद्भुत।

रंजना said...

मन के कोमल सुन्दर भावों को बहुत ही सुन्दरता से आपने शब्दों में सजाकर अभिव्यक्त किया है ...अतिसुन्दर रचना...

ARUNA said...

प्रेम की टेढी भाषा..!!!...ज़रा समझायेंगे सीधी तरह:))

Rajat Narula said...

बहुत भावपूर्ण रचना है ! बधाई स्वीकार करें !

Blogvani

www.blogvani.com

FeedBurner FeedCount